Class 8 Hindi Vasant Chapter 2 lakh ki chudiyan question answer

lakh ki chudiyan class 8 hindi chapter 2 Question and answers Ncert Solutions with free pdf download लाख की चूड़ियाँ

PGRMS Education

पाठ – 2 लाख की चूड़ियां

कहानी से

प्रश्न १ :- बचपन में लेखक अपने मामा के गांव चाव से गांव क्यों जाता था और ‘बदलू को बदलू मामा’ न कहकर ‘बदलू काका’ क्यों कहता था? 

उत्तर :- बचपन में लेखक अपने मामा के गांव चाव से इसलिए जाता था, क्योंकि लेखक के मामा के गांव में बदलू नाम का एक चूड़ी बनाने वाला था। वह लेखक को बहुत प्यार करता था जब लेखक उसके पास जाता तब वह लेखक के लिए रंग बिरंगी लाख की  गोलियां बना कर दे देता था। इससे लेखक के पास बहुत सारी गोलियां हो जाती थी। इसलिए लेखक बड़े ही चाव से अपने मामा के गांव  जाता था। सभी बच्चे बदलू को ‘बदलू काका’ कहते थे। इसलिए वह भी बदलू को ‘बदलू मामा’ न कहकर ‘बदलू काका’ कहा करता था।  

प्रश्न २ :- वस्तु विनिमय क्या है? विनिमय की प्रचलित पद्धति क्या है?

उत्तर :- एक वस्तु के बदले में दूसरी वस्तु ले लेना वस्तु विनिमय कहलाता है। जैसे बदलू को सभी लोग अनाज दे देते थे और बदले में वह उनको चूड़ियां दे देता था। इस तरह से एक वस्तु के बदले दूसरी वस्तु का प्रचलन था लेकिन अब यह चलन मुद्रा द्वारा होने लगा है। हर देश की अपनी एक मुद्रा होती है। भारत में वस्तु विनिमय का प्रचलन पद्धति रुपया है। 

प्रश्न २ :- ‘मशीनी युग ने कितने हाथ काट दिए हैं।’- इस पंक्ति में लेखक ने किस व्यथा की ओर संकेत किया है ?

उत्तर :- इस पंक्ति में लेखक ने कारीगरों की व्यथा की ओर संकेत किया है। मशीनों के आगमन के साथ ही कारीगरों के हाथ से उनका धंधा छिनता  जाता है। मशीनों द्वारा तैयार किया हुआ माल बहुत ही सस्ता होता है जबकि कारीगरों के द्वारा तैयार माल कुछ महंगा पड़ता है इसीलिए लोग सस्ते के चक्कर में मशीनों से तैयार माल को ही खरीदते हैं। जिससे कारीगरों का माल बाजार में बिकना बंद हो जाता है। परिणाम स्वरूप वे बेरोजगार होते जाते हैं। उनके सामने बहुत बड़ी आर्थिक समस्या आ जाती है। इसलिए लेखक ने कहा है कि ‘मशीनी युग’ ने न जाने कितने कारीगरों के हाथ काट दिए हैं। 

प्रश्न ४ :- बदलू के मन में ऐसी कौन सी व्यथा थी जो लेखक से छिपी न रह सकी। 

उत्तर :- बदलू चूड़ियां बनाया और बेचा करता था। परंतु जैसे-जैसे कांच की चूड़ियों का प्रचलन बढ़ता गया उसके अपने व्यवसाय की दुर्दशा होती गई। यह बात बदलू के मन में यह बात कचोटती रहती थी। मशीनी युग के परिणाम स्वरूप कारीगर बेरोजगारी का शिकार होते  जा रहे हैं, और कोई भी व्यक्ति कारीगरों की कदर नहीं करता है लोग दिखावटी व चमकदार चीजों पर ज्यादा ध्यान देता हैं। बदलू के दिल की यह व्यथा लेखक से छिपी न रह सकी। 

 मशीनी युग से बदलू के जीवन में क्या बदलाव आया

मशीनी युग से बदलू के जीवन में अत्यधिक बदलाव आया उसका व्यवसाय बंद हो गया वह बेरोजगार हो गया काम ना करने से उसका शरीर ढल गया और सामने आर्थिक तंगी आ गई और उसे अपनी गाय तक भी बेचनी पड़ी अब वह बीमार भी रहने लगा कहानी से आगे

 कहानी से आगे आपने मेले बाजार आदि में हाथ से बनी चीजों को बिकते देखा होगा आपके मन में किसी चीज को बनाने की कला सीखने की इच्छा हुई हो और आपने कोई कारीगरी सीखने का प्रयास किया हो तो उसके विषय में लिखिए

भारत एक परंपरा का देश है यहां पर हम छोटे बड़े शहर में वर्ष में कई बार मेलों का आयोजन होता है ग्रामीण बाजार में बहुत सारी चीजें हाथ से बनी हुई इन मेलों में बेची जाती हैं जैसे छोटे बच्चों के लिए मिट्टी के द्वारा बनाए हुए खिलौने पैसे एकत्र करने के लिए मिट्टी की गुल्लक गुल्लक में घी में होता है मिट्टी के बहुत सारे खिलौने तथा लकड़ियों से बनी हुई बहुत सारी वस्तुएं मिलती है जब मैं छोटा था एक बार पिताजी के साथ दशहरे का मेला देखने के लिए गया था वहां पर लकड़ी के द्वारा हाथ से बनाई हुई लकड़ी की गाड़ी मुझे बहुत ही पसंद आई लेकिन उस दुकान पर अत्यधिक भीड़ होने के कारण मैं उसे खरीदने एक बार जब मैं घर पर लकड़ी के दरवाजों का काम चल रहा था मेरे घर के दरवाजे लकड़ी के दरवाजे 

शाम को अपने रोजा रखकर जब वह अपने घर चला गया तो मैं चुपचाप वहां बैठ कर देखो वह गाड़ी बनाने की कोशिश करता था मैंने गाड़ी का फ्रेम लगभग बना लिया था लेकिन उसका पहिया मैं बना नहीं पा रहा था अगले दिन उस कारीगर ने जब मेरे द्वारा बनाई हुई गाड़ी देखी तो उसे बहुत खुशी हुई और उसने अपने हाथ से मेरे लिए वह पहिया बना दिया अपने द्वारा अपने प्रयास के द्वारा बनी हुई गाड़ी अत्यधिक और मैंने गाड़ी सभी बच्चों को दिखाएं सभी बच्चों ने भी अपने हाथ से गाड़ी बनाने की कोशिश की

 लाख की वस्तुओं का निर्माण भारत के किन किन राज्यों में होता है और क्या-क्या चीजें बनती है ज्ञात कीजिए

 लाख की चूड़ियों का निर्माण भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में सबसे ज्यादा होता है उत्तर प्रदेश का जिला चूड़ी बनाने के लिए अत्यधिक प्रसिद्ध है लाख से चूड़ियों के अतिरिक्त मोतिया मोती भी बनाई जाती हैं और दूसरी नकली ज्वेलरी भी बनाई जाती है

Free Pdf Class 8 Hindi Chapter 1 Lakh Ki Chudiyan :-

To see our Youtube Channel Pgrms Click Here

Related Searches:-

class 8 hindi chapter 2 extra questions
Class 8 Hindi Chapter 2 PDF
class 8 hindi chapter 2 summary


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *